Usey Pasand Hai By Nidhi Narwal | Love Poetry | The Social House Poetry | Whatashort




Comments
  1. Kya kahe us khuda ko. Bas itna hi dua karta hu rab se ki bas tu meri jindagi me yu hi bani rahe.
    Teri chahre ki khusi yu hi bani rahe.
    Tu hasti rahe yu hi. Khushiya tere jiwan me yu hi bani rahe.
    Mile tujh sa koi mujhe bhi jindagi me. Bas itni hi khwaish hai is jindagi me.
    Mangta nahi hu jindagi me teri khusiyo ke seva kucha aur mai rab se.
    Bas khusiya yu hi bani rahe teri bandagi me.
    Ye duniya kya kahti hai. Uski parwah mai nahi karta.
    Mazhab ishq hai mera ye likhaye baithe hum hatho par.
    Bas intzaar hai tera is jindagi me aane ka.
    Bas itni dua hai rab ki tere labo ki muskan yu hi bani rahe……tere chahre ki muskan yu hi bani rahe.

    Kuch bhool hui ho to bhula dena usko. Jo dil ki baat thi wo shabdo ke rashte rakhne ka praytn kiya hai

  2. Ma'am aapki poetry "use pasand h " Ko thoda aage lekr Jane ki koshish ki h
    I hope you like it🙂
    यूँ तो सवरना पसंद नही मुझे
    पर संवरती हूँ क्योंकि उसे पसंद है
    माथे पर बिंदी
    आंखों में काजल लगाना उसे पसंद है
    उसे देख कर मेरा पलकें झुका लेना
    वो कहता है उसे पसंद है
    मेरे होठों पर लाली
    मेरे कानों में बाली
    चूडियों की खनक
    पायल की झनक
    सब इसीलिए है
    क्यूकी उसे पसंद है
    वो कहता है
    यूँ तो मुझ पर सब फबता है
    पर में सूट पहनती हूँ
    क्योकि उसे पसंद है
    अब ये तो हो गयी उसकी पसंद की बाते
    बताती हूँ मुझे उसमे क्या पसंद हैं
    वैसे तो वो प्यार है मेरा
    पर उसकी कुछ बातें
    मुझे बेहद पसंद है
    चलते चलते राहों में
    डर लगे जब मुझे अंधेरों से
    मुझे बाहों में भर लेना
    सुनसान गालियों में
    या अंजानो की भीड़ में
    मेरा हाथ कसकर पकड़ लेना
    पता है उसे ,
    मुझे पसंद है उसकी पसंद जानना
    उसकी हर पसंद को मेरी पसंद बनाना
    पसन्द है मुझे उसका मुझ पर
    हक़ जताना
    कोई गलती होजाये तो मुझे डाँट
    कर समझाना
    मंदिर जाकर जो सिर ढकना में भूल जाऊ
    तो उसका आंखे दिखाना
    ओर फिर मेरे ना समझने पर खुद मेरे सिर पर दुपट्टा
    गिरना
    उसकी सादगी भरी मुसकुराहट पसन्द है मुझे
    उसके आने की आहट पसंद है मुझे
    यूँ तो उसका प्यार जन्नत है मेरे लिए
    पर सच कहूँ तो उसकी नाराजगी भी पसंद है मुझे

  3. khne ki bate h krte ni koi ho jata h ho itna jyda ho jata lgta h jindagi usk bina n gujregi bhut gjb ki feelings h y smghe whi jise hua schi pyar wrna sbko u hi mjak lgta h auro ki feelings ki koi kdr n hota h khne sunane ki bate h

  4. Chaand bhi tab sharmaya hoga
    Jab jikar tumhara aaya hoga
    Dekhe honge kai haseen chahre usne bhi
    Par tumhare noor ne sab bhulaya hoga
    Hoga bhut naaz usey apni chaandni pe beshak
    Par jab bhi pucha gaya husn usse
    Usne bhi tumhara naam farmaya hoga
    Usne bhi tumhara naam farmaya hoga

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *